जानिये ख्वाजा फखरूद्दीन चिश्ती की दरगाह के मुतवल्ली को क्यों किया सस्पेंड ?
मोहम्मद यूसुफ खान को सरवाड़ दरगाह के मुतवल्ली पद से किया गया सस्पेंड
सजग नागरिक टाइम्स;सूफी संत हजरत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती के पुत्र हजरत ख्वाजा फखरूद्दीन चिश्ती की दरगाह के मुतवल्ली मोहम्मद यूसुफ खान को सस्पेंड कर दिया गया है। यह दरगाह अजमेर जिले के सरवाड़ कस्बे में स्थित है। 18 अक्टूबर को जयपुर में राजस्थान वक्फ बोर्ड की बैठक हुई। इस बैठक में बोर्ड के अध्यक्ष अबू बकर नकवी के साथ-साथ अफरोज जैदी, निदा खान, शौकत कुरैशी, जमील कुरैशी आदि मौजूद थे।
यह बैठक खासतौर से सरवाड़ दरगाह के मुतवल्ली के खिलाफ मिलि शिकायतों को लेकर बुलाई गई थी। बेठक में सर्वसम्मति से यूसुफ खान को दरगाह के मुतवल्ली के पद से सस्पेंड करने का निर्णय लिया गया। साथ ही मुतवल्ली के पद पर रहते हुये खान के कामकाज की जांच कराने का भी फैसला किया गया।

सीएम से की थी शिकायत
गत 15 अक्टूबर को सीएम वसुंधरा राजे के अजमेर आगमन पर मुसलमानों के एक प्रतिनिधि मंडल ने सरवाड़ दरगाह के मुतवल्ली के खिलाफ सीएम राजे को ज्ञापन दिया था। इस ज्ञापन में मुतवल्ली के कामकाज की जांच कराने की मांग की गई थी। सीएम को यह बताया गया कि अजमेर शहर की अनेक मस्जिदों की दुर्दशा हो रही है, लेकिन वक्फ बोर्ड के सदस्य के तौर पर यूसुफ खान कुछ नहीं कर रहे हैं। जबकि खान ने अजमेर में अन्दर कोट सम्पर्क सड़क की पहाड़ी पर आलीशान कोठी बना ली। सीएम ने मामले की गम्भीरता को देखते हुए पूरे मामले की जांच कराने के आदेश दिए थे। सीएम को ज्ञापन देने वालों में पीर नफीस मिया चिश्ती, सैयद गोहर चिश्ती, सलमान खान, मोईन खान, शाून खान, सद्दाम, तौफीक खान आदि शामिल थे

यह खबर केअर ऑफ़ मीडिया से ली गयी है.

Leave a Reply