माहे रमजान देता है इन्सान बनने की ट्रेनिंग

  रोजा रब के लिए है वही इसका बदला देंगा. रोजा सिर्फ खाने पीने को छोडने का नाम नही है बल्कीरोजा इंसान को हर गलती से रोकता है, जो गलती आमदिनों में भी जायज नहीं है, रोजे की हालत मे जायज चिजोंसे इसलिए रोका गया है की रोजेदार नाजायज चिजोसे हमेशा दूर रहे, झूठ बोलना, चूगलखोरी करना,बे तुका मजाक करना, झगडा करना, झूठ बोलकर माल बेचना , बदनिगाही करना,..ऐसी बहोत सारी चिजे आम दिनों में भी…

0 comments

इन्सान को रोज़ा रखनेसे बुलंदी हासिल होती है

  इस्लामने मुसलमानो को साल के १२ महीने में एक महीने की ट्रेनिंग का ऐसा नियम सिखाया है जिससे हर बन्दा अपने आप को ऐसा बना ले जैसा बनदे का रब चाहता है “माहे रमजान जिस्मानी .रूहानी ,और मानसिक ट्रेअनिंग के साथ खुदा की इबादत और नेकियोंकी मोसमे बहार  है .इस्लामी महीने में रमजान महीने का बहुतही बड़ा मरतबा है.इसलिए नही कीयह एक रोजे का  महीना है.जिसमे इन्सान रोज़ा रखता है.बल्की इसलिए की इसका पूरी…

0 comments

रमजान च्या पहिल्या रोजा इफ्तार साठी मुस्लिम बांधवाची लगबग

पुणे शहरातील मोमिनपुरा परिसरात  रमजान च्या रोजा इफ्तार साठी मुस्लिम बांधव तयारी करताना  पुणे : मुस्लिम बांधवांन मध्ये या रमजान महिन्याचे खूप महात्म्य असून आज मुस्लिम बांधवांचा पहिला रोजा होता  या पहिल्या रोजा इफ्तार (रोजा सोडणे)साठी लागणार्या खाद्य पदार्थ खरेदी विक्री चे स्टऑल पुणे शहरातील विविध ठिकाणी लागले असून . पुणे शहरातील मोमिनपुरा परिसरात हि खाद्य पदार्थाचे दुकाने लागली आहे . मुस्लिम बांधव हि आनंदाने रोजा इफ्तार साठी लागणारे  खाद्य पदार्थ खरेदी करताना दिसत आहे

0 comments