Eid e Miladunnabi का जुलूस नात और मिलाद पढते हुवे निकाला गया

Eid e Miladunnabi julus नात और मिलाद पढते हुवे निकाला गया

eid-e-miladunnabi-julus-was-taken-out-after-reading-naat-and-milad

सजग नागरिक टाइम्स Eid e Miladunnabi julus : पैगंबर मोहम्मद साहब का जन्म इस्लामिक कैलेंडर के तीसरे महीने रबी-अल-अव्वल के 12वें दिन हुआ था।

उनके जन्मदिन को ही ईद-ए-मिलाद / मिलाद-उन-नबी का दिन कहा जाता है।

इनके जन्म की खुशी में मुस्लिम मस्जिदों में नमाज अदा करते हैं। रातभर मोहम्मद को याद कर जुलूस निकालते हैं, मजलिसे निकालते हैं।

Advertisement

इसके साथ ही इस खास दिन पर पैगंबर मोहम्मद की दी गई शिक्षाओं और पैगामों को पढ़ा जाता है।

पैगंबर हजरत मोहम्मद ने ही इस्लाम धर्म की पवित्र किताब कुरान की शिक्षाओं का उपदेश दिया था।

video देखे

इसी कड़ी में जिला अयोध्या कोतवाली बीकापुर क्षेत्र अंतर्गत मोतीगंज बाजार में जश्ने ईद मिलादुन्नबी

Advertisement

अंजुमन सराय हक मोतीगंज के जानिब से तिरंगे के साथ जुलूस निकाला गया

मीर जानिब मिर्जा कलीम बेग ने बताया की 12वीं रबी उल अव्वल के मौके पर यह जश्न मनाया जाता है

यह जुलूस मोतीगंज बाजार से होते हुए पूरे गुलाब का मस्जिद होते हुए उत्तरपारा भीतरगांव मियां गंज जगदीशपुर जाकर वापस मोतीगंज बाजार में समापन होता है

Advertisement

फिर शाम को 8:00 बजे से 11:00 बजे तक मिलाद का कार्यक्रम होता है इस जुलूस में मोहम्मद ईशा मौलाना अशरफ बैग

मोहम्मद शब्बीर खान मोहम्मद सुल्तान खान मोबीन नईम मोहम्मद अनवर अली मोहम्मद सलीम बब्बू जफर बैग आतिफ उल कादरी

मोहम्मद गुलाम मोहम्मद रमजान, मोहम्मद सलीम, फोटो मोहम्मद इलियास खान

Advertisement

एवं समस्त बाजार क्षेत्र वासियों द्वारा जुलूस का कार्यक्रम निकाला गया

इस मौके पर पुलिस चौकी मोतीगंज चौकी प्रभारी एसके मौर्य

अपनी पूरी टीम के साथ मुस्तैदी से जुलूस का कार्यक्रम संपन्न कराया

Advertisement

यह भी पढ़े : पुणे मे ईद-ए-मिलादु्न्नबी आपसी भाईचारेसे मनाई गयी.

हजरत मोहम्मद पैगंबर का जन्म इस्लामिक कैलेंडर के तीसरे महीने की रबी-उल-अव्वल के 12वें दिन हुआ था।

उनके जन्मदिन को ही ईद-ए-मिलाद/मिलाद-उन-नबी का दिन कहा जाता है।

इनके जन्म की खुशी में मुस्लिम समुद्राय मस्जिदों में दरूद पढते है, नमाज अदा करते हैं। अधिक पढ़े

Advertisement
telegram

One thought on “Eid e Miladunnabi का जुलूस नात और मिलाद पढते हुवे निकाला गया

Comments are closed.