मुगलोनको कोसना बहुत आसान है ,अगर हिम्मत है तो इनसे बेहतर बनाकर दिखाओ

(Mughal) मुगलोनको कोसना बहुत आसान है,

It is very easy to curse Mughal if you dare show them better

 
बहुत आसान है (Mughal)मुगल बादशाहों को गालियां देना क्योंकि अब वे दोबारा नहीं आने वाले।

बहुत आसान है यह कहना कि ताजमहल को गद्दारों ने बनाया था।बहुत आसान है यह कहना कि इतिहास बदल देंगे।

मगर बहुत मुश्किल है वो करना जिससे कि लोगों का वर्तमान सुधर जाए।

Advertisement

ये भी पढे:मोबाईल फ़ोन एक लॉकर है इस में नेकिया जमा करो या गुनाह

मुगलों ने जो इमारतें बनाई थीं, वे सदियों से सर्दी, गर्मी, बरसात, धूप, छांव सहन करने के बाद भी शान से खड़ी हैं।

जबकि आज की हुकूमतें (सभी दलों की) जो पुल और सड़कें बनाती हैं, वे उद्घाटन से पहले ही ध्वस्त हो जाती हैं।

Advertisement

क्या आपने कभी पढ़ा है कि अकबर ने, शाहजहां ने या औरंगजेब ने फलां इमारत में घटिया निर्माण सामग्री का उपयोग किया और उसके पैसे हजम कर गया?

ये इमारतें ही कह रही हैं कि वे आज के नेताओं से कहीं ज्यादा ईमानदार थे।

ये भी पढे : आप (सल्ल°) की तशरीफ़ आवरी से पहले की जहालत और जलालत का आलम

अलबत्ता कमियां सभी में होती हैं, मुगलों में भी जरूर रही होंगी। वे कोई फरिश्ते तो नहीं थे।

Advertisement

आज तो नेताओं और बड़े अफसरों की मौत के बाद अखबारों में तीये की बैठक के बड़े विज्ञापन छपते हैं और बड़े-बड़े स्मारक बना दिए जाते हैं।

एक बादशाह औरंगजेब था, जिसकी कच्ची कब्र भी खुले आसमान के नीचे है।चाहता तो वो उसे सोने से मढ़वा सकता था।

ये भी पढे : इस्लाम जो एक आंदोलन की तरह उठा था जिस के सामने बड़ी से बड़ी ताकत नहीं टिकती थी

Advertisement

ताजमहल, लाल किला और मुगलिया सल्तनत की इमारतों को कोसना बहुत आसान है।अगर हिम्मत है तो इनसे बेहतर बनाकर दिखाओ।

मगर हम जानते हैं, आप ऐसा नहीं कर पाएंगे।इसलिए जो मुगल छोड़ गए, उसी में खुश रहना सीखें.! तुमसे न हो पाएगा.! तुम बस गोबर में कोहेनूर खोजो,

ये भी पढे :आप (सल्ल°) की तशरीफ़ आवरी से पहले की जहालत और जलालत का आलम

Advertisement

लेखक :अंजली शर्मा 

सिर्फ इसका टाइटल हि  सजग नागरिक टाइम्स (सनाटा )का है .

Advertisement
Support our journalism - Support Sajag Nagrikk Times

Leave a Reply