सियासत इंसानियत के नाम पर हो! धर्म या जाति के नाम पर ना हो.

WEB HOSTING OFFERsajag-advertisement-offer
Advertisement

(Politics)अगर कोई एक मजहब में दूसरे मजहब को खुद के फायदे के लिए जोड़ें कानूनी जुर्म है.

(Politics) सजग नागरिक टाइम्स :

इस्लाम मजहब अमन और शांति फैलाने वाला मजहब है. और इस्लाम मजहब सिखाता है, हर किसी को उसकी इज्जत दो!

और जो शख्स मुसलमान होता है उस पर “शरीयत” की तरफ से बहुत सारी पाबंदियां होती है.

अल्लाह ताला फरमाते हैं “मेरे पास हर गुनाह की माफी है सीवाय शिर्क के मैं शिर्क करने वालों को कभी माफ नहीं करता”

Advertisement

शिर्क किसे कहते हैं?

एक शख्स अल्लाह को तो मानता है पर वह यह कहता है की अल्लाह के अलावा भी कोई इबादत के लायक है, वो शिर्क है.

हालांकि इस्लाम नाम ही एक अल्लाह को मानने का है.

” नहीं कोई माबूद सिवाय अल्लाह के ” और भारत का संविधान भी हम मुसलमानों को यह इजाजत देता है कि हम अपने मजहब के मुताबिक जिंदगी गुजारे,

Advertisement

अगर कोई एक मजहब में दूसरे मजहब को खुद के फायदे के लिए जोड़ें कानूनी जुर्म है.जो आए दिन हमारे हिंदुस्तान में चल रहा है!

Advertisement

कभी कोई मुसलमान मूर्ति की पूजा करता है तो कभी कोई हिंदू टोपी पहन लेता है हालांकि यह एक मजहब में होते हुए दूसरे मजहब के तरीकों को इस्तेमाल करना मजहब का मजाक है किसी धर्म की किताब में यह नहीं लिखा है कि दूसरे धर्म का पालन करो!

हां सम्मान करने को बताया है यही बात हमको समझनि है, हम को चाहिए कि हम हर मजहब की इज्जत करें हम में से किसी को यह हक नहीं के ऐसा कुछ काम करें जिससे अपने मजहब वालों को तकलीफ हो.

जैसा के मुसलमान होते हुए पूजा पाठ करना हिंदू होते हुए नमाज पढ़ना वगैरह .

Advertisement

आओ आज हम यह तय करें कि जो कोई मजहब के आड़ में खुद के फायदे को सामने रखते हुए मजहब के साथ खिलवाड़ करें ऐसे लोगों को सबक सिखाएं ,

इनको इनकी हैसियत समझाएं इनका खुलकर विरोध जताए हर कोई अपने मजहब पर चले किसी के मजहब में दखलअंदाजी ना करें सियासत इंसानियत के नाम पर हो! धर्म या जाति के नाम पर ना हो.

( मौलाना शाहरुख अजीज खान)

Advertisement
कमी गुंतवणुकीत आजच आपले News Portal बनवा व पैसे कमवा

न्यूज वेबसाईट एका दिवसात बनवून मिळेल